Skip to main content

Posts

Showing posts from 2013

रूठ गयी फिर मोहब्बत

रूठ गयी फिर मोहब्बत मुझसे,
मेरी तन्हाई भी खफा हो गयी,,
न जाने किस गुनाह ने, बनाया फिर गुनहगार मुझे,
मेरी चाहत फिर बे-वफ़ा हो गयी..!!

फिर दूर हो गयीं सब चाहतें मुझसे,
उनकी बातें भी अब जुदा हो गयीं,,
मेरी खताओं कि सज़ा मुझको दी,
पर तेरी खताएं तो अदा हो गयीं..!!




DEATH Can't Separate The HEARTS

टूटे दिल कि हसरतों का, दिल में बसेरा रहेगा,,
आँखें मेरी जो रोयेंगी तो, दर्द इनमें तेरा रहेगा।।
कुछ इस तरह समाया है, मेरी रगों मैं प्यार तेरा,, आखरी सांस रहने तक, लबों पे नाम तेरा रहेगा।।

उसकी आँखों की सुर्खियाँ

उसकी आँखों की सुर्खियाँ दे रहीं हैं पता,
की रात उसने भी जाग कर गुजारी होगी,,
बिस्तर की सिलवटें बयाँ कर रही हैं दास्ताँ,
के जुदाई की पहली रात उसपर किस क़दर भारी होगी,,
अब कौन करता होगा तेरे हुस्न की तारीफ़,
हमारे बाद उलझी हुयी ज़ुल्फ़ किसने संवारी होगी,,
तूने अपना समझ के इक बार माँगा तो होता,
जान की कसम क्या जान हमे जान से प्यारी होती,,
मंजिल तो दूर न थी मगर हौसले कायम न रख सके 'रवि',
शायद कहीं मैं थक गया, कहीं उसने भी हिम्मत हारी होगी..!!

21वीं सदी का बीमार इंसान

जो इंसानियत को तड़पते देखकर भी, मुंह फेर लेता है,,
उस पर मेरे दोस्त, किसी दावा का असर कहाँ होता है..!!

ऐसे इंसानों के लिए बस यही कहना चाहूँगा मित्रों,,
कि,

"दूसरों के ग़मों को देखकर, जो मंद-मंद मुस्काता है,,
कुछ न कुछ रोज़.. उसके जिस्म में मर जाता है..
इतनी हैवानियत भर ली है, उसने अपने अन्दर,,

के अब आइना भी उसे देखता है, तो डर जाता है..!!" #VicharonKiUdan By-Doc Ravi

I'm Within You

जुदाई हो के मिलन हर अदा हमारी है,  तुम्हारा शहर है लेकिन फिजा हमारी है..!! शिकायतें भी करें हम तो किस ज़बान से करें, खुदा बनाया हमने ये खता हमारी है..!! [खता=mistake] हमारे जिस्म की उरियानत पे मत हँसना, के तुम जो ओढ़े हुए हो वो रिदा हमारी है..!! [उरियानत=nakedness/nudity; रिदा=cloak/sheet] हमारे सामने ज़ेबा नहीं गुरूर तुम्हें, जहां पे बैठे हो तुम वो जगह हमारी है..!! [ज़ेबा नहीं=does not suit; गुरूर= pride] [जगह=place]

If U Are Willing To Win, U Hv To Fight

हर किसी के साथ जीवन, कभी सख्त होता है,,
कभी खराब किस्मत, तो कभी वक़्त होता है,,
संघर्ष कर के बढ़ना, मत हारना कभी भी,,
सिर्फ कायरों का सूरज, गर्तों में ज़ब्त होता है..!!

प्यार और अंगार में कोई फर्क नहीं...

किसी प्यार करने वाले की, बात मत पूछो,,
चाहत की लौ में खुद को, पतंगे की तरह जलाते हैं..!!
मत पूछो कितना सुलग रहा, मेरे सीने में ग़म,,
कभी ये शमा बुझाते हैं, तो कभी वो शमा बुझाते हैं..!!
मेरे हर आंसू में होती है, नीलम सी चमक,,
पर अफ़सोस...ये दुनिया वाले इसे न देख पाते है..!!