Skip to main content

Posts

Showing posts from 2011

खोखली राजनीती का भंवर

दिलकश परदे लगे राज़ के रखवालों के, हाँ हमसब हैं चोर पूछ लो सरकारों से.. आशाओं के सभी किनारे लगे सरकने, गए माँगने लोग आसरे मजधारों से.. आये थे नेता जी घर पर प्यार बांटने, हमे बचा ही लेना दुश्मन..! इन यारों से.. एक तसल्ली के घर में हम ठहरे,, बेघर, आस लिए बैठे हैं अब तो इन्कारों से.. हम आवारा रूह तड़पकर चले ढूँढने, वो तन्हाई आज शोरों के बाजारों से.. आज अहिंसा के सायों में जले लोग ये, आये हैं इन्साफ माँगने तलवारों से.. एक गुलाबी फूल हाथ में लेकर राहुल, हाल पूछने चले दहशतों के मारों से…

Veena Ki Swayamvar Leela

कल रात को जब आखो में एक आँसू आया,
मैंने उससे पूछा तू बता बाहर क्यों आया,,
बेचारे ने सुबकते हुए अपना मुह खोला,
अगले ही क्षण बोला,,,
“इमेजिन वालों ने फिर से स्वयंवर सजाया है,
इस बार सर्कस के लिए वीणा मालिक को बुलाया है..
सोचकर दुखी होता हूँ इमेजिन की स्वयंवर लीला,,,
अब लोगों का चरित्र परीक्षण वो करेगी,
जिसका स्वयं ही है करेक्टर ढीला….”

आज के दिन सिर्फ उल्लू पूजे जाते हैं...

एक दिन लक्ष्मी जी का वाहन उल्लू उनसे रूठ गया और बोला: आपकी सब पूजा करते है मुझे कोई नहीं पूछता!लक्ष्मी जी: मैं तुम्हारी पूजा अपने से पहले करवाऊंगी..!! इसलिये दिवाली के पहले “करवा चौथ” मनाया जाता है!
उस दिन सिर्फ उल्लू पूजे जाते हैं..!! :D

Dekho, Socho Fir Bolo....

ARVIND KEJRIWAL:-

1.Mechanical Engineer :- IIT Kharagpur
2.Job :- Tata Steel
Former IRS (posted at IT Commisioner's office)
Social Activist:-
Man behind Right to Information Act and LokPal bill
3. Awards :-
Various Ashoka Fellow, Civic Engagement.
2005: 'Satyendra Dubey Memorial Award', IIT Kanpur for his campaign for bringing transparency in Government
2006: Ramon Magsaysay Award for Emergent Leadership.
2006: CNN-IBN, 'Indian of the Year' in Public Service
2009: Distinguished Alumnus Award, IIT Kharagpur for Emergent Leadership.
2010: Policy Change Agent of the Year, Economic Times Corporate Excellence Award along with Aruna Roy.

He left his job in IRS to fight against corruption !!


RAHUL GANDHI :-

1. Education- failed to secure passing grades in National Economic Planning and Policy graduated by any how
2. Job: Got ancestral political power and running through it
3. Award: he is making awards not getting it


For him Terror attacks are common thing...

Something About Our "BAPU"

Mohandas K. Gandhi was an Intelligent Fraud,It is said that when Gandhi was shot, his last words were “Hey Ram”.For those who don’t know (lord) Ram is name of a Hindu god. Lord Ram is depicted an ideal human in a Hindu script know as “Ramayana”. It is well known fact that Mr. Gandhi believed in god. He also preached that we should have fate in god.British applied all kinds of inhuman punishment to Indian in order to suppress there voice against independences. Mr. Gandhi use to appeal Indian to remain calm and non-violence against injustice. In attempt to get justice and to prevent humanity it is justified to kill demons in the society . Even lord Ram & lord Krishna depicted an ideal human in a Hindu script know as “Ramayana” and “Bhatvata-Gita” did took to violence in attempt to prevent injustice. So why did the follower of Ram (Mr. Gandhi) appeal Indian to remain calm and non-violence against injustice? This is completely opposite to the teachings of Bhatvata-Gita a…

राजनीति का मारा है, बापू क्या ये देश तुम्हारा है...

हर तरफ मचा है शोर
कदम कदम पे फैला अन्याय घोर,
चारों और घना अँधियारा है
बापु क्या ये देश तुम्हारा है?

लोकतंत्रका बस नाम है
होते भ्रष्टतंत्रसे सब काम है,
झुट फरेब को यहाँ सहारा है
बापु क्या ये देश तुम्हारा है?

सच्चाई का यहाँ होता मुह काला
छिनजाता है गरीबोंके मुह का निवाला,
स्वार्थ में बचा न भाईचारा है  
बापु क्या ये देश तुम्हारा है?

नाम तुम्हारा है लेकर चलते
आचरण कहींभी न तुमसे मिलते,
विचारधारा को आज तुम्हारी ललकारा है
बापु क्या ये देश तुम्हारा है?

सेवक तुम्हारा आज मैदान में खड़ा
तुम्हारे अपनोंसे ही पाला पड़ा,
फिर एक बार तुम्हारी विचारधारा को मारा है
बापु क्या ये देश तुम्हारा है?

India Has Talent ...

हाँ इतना Talent है की उसे हम घर में ही दिखाते हैं...
देश के काम तो, बेवकूफ ही आते हैं.....
किसी भी काम को आसान बनाने के लिए कीमत चुकाते हैं... (रिशवत)
काम में महनत को, बेवकूफ ही आजमाते  हैं...
चाय की चुश्कियों के साथ Corruption-Corruption चिल्लाते हैं...
अनशन पर तो अन्ना जैसे बेवक़ूफ़ ही जाते हैं....
कम Talanted नहीं हैं नेता जी भी, जो संसद में चिल्लाते हैं....
गरीबों के दुखड़े सुनने तो बेवक़ूफ़ ही जाते हैं...
भारत माँ के चीरहरण कर्ता को बिरियानी का सेवन कराते हैं....
ऐसे कमीनों को मारने वाले बेवकूफ ही कहलाते हैं....
सच में मेरे देश में बड़ा ही Talent है...-(रवि प्रताप सिंह)

Today’s Generation…..

Fans of movies are every where,
we can see them here and there..
they know all the heroes,
in the studies, they may be zero..
for the movies, they are mad,
when they have to study they became sad..
Teacher says,”Writer of the poem is Mr. John.”,
Student says,”Leave it, see filme ‘Hum aapke hai kaun’”..
Teacher says,”Why are you coming on later”,
Student says,”Sir ‘RAJA’ film is going on in the theatre”..

They know about each and every dialogue and scene,
in the studies, their minds are clean..
In doing the homework, they are very slow,
for seeing movies, they shine with glow..
so future generation will be full of actors,
Films will be made on each and every chapter..

जय हो बेईमान की...

बेकारी औ भुखमरी, महंगाई घनघोर,,
जित देखूं तित दिखें,खादी में सब चोर|
इस पेज पर में करता हूँ, बातें हिन्दुस्तान की,,
जय बोलो बेईमान की! बातें तो सब ही करें, अमल करे न कोय,,
महगाई के बोझ तले, गरीब बिलख कर रोय |
करता हूँ फ़रियाद में सबसे, लोगों के कल्याण की,,
जय बोलो बेईमान की! देश देश तो सब करें, देश न समझे कोय,,,
भारत माँ के चीरहरण पर,कोई नहीं अब रोय |
इज्ज़त लूट रहे हैं नेता, मेरे हिन्दुन्तान की,,,
जय बोलो बेईमान की… | (doc Ravi)

Happy BIRTHDAY Brother

चर्चे जिसके अवधपुरी में,हर कोई लेता नाम..
कानपुर के उस गौरव को,करता रवि प्रणाम...

जन्मदिवस है तीन अगस्त,
देखे किसी का गर वो कष्ट..
उसकी मदद करे अविराम..
कानपुर के उस गौरव को,करता रवि प्रणाम...

योगी पर बैठक होती है,
दुखड़े लेकर जनता रोती है..
सुनकर करे सबका कल्याण...
कानपुर के उस गौरव को,करता रवि प्रणाम...


नफरत और ताकत के आगे, नहीं झुकाया शीश,
शर्तों पर वो जिया है अपनी,नाम है उसका मनीष..
मित्र भी सच्चा... इंसान भी अच्छा,,
करें सभी सम्मान..
कानपुर के उस गौरव को,करता रवि प्रणाम...
By (Doc Ravi Pratap Singh) For My Friend (Mannu)
Happy Birthday my Friend... :))

एक पहेली... (तीन देवियाँ मेरे TL की)

टोरंटो में रहने वाली,,
शायरी में सब कहने वाली...
सांई का साथ कभी न छोड़े,
हँस कर सब से रिश्ता जोड़े..
जीवन जिसका है सादा,,
वो है कौन..""मैडम अनुराधा"

कनेडियन छोरी गोरी गोरी,
पर लागे है सिस्टर मोरी..
DP के सब कायल हैं,
ट्विट्टर पर कई घायल हैं..
नाम है उसका very simple
वो है कौन.....""मैडम रिम्पल"

ट्विट्टर की एक हस्ती हैं,
जो दिल्ली में बसती हैं..
ट्विट्टर पर जब आती हैं,
गाने वो गुनगुनाती हैं...
नाम बताने में उनका, करना मत त्रुटी...
वो हैं कौन....... ""मैडम श्रुति""

‘‘हाथ से सिगरेट छूट गई......’’

‘‘हाथ से सिगरेट छूट गई......’’
..............................​...................
‘‘अठारह वर्ष से कम उम्र के बच्चों को तम्बाकू या तम्बाकू से बने पदार्थ बेचना दंडनीय अपराध है।’’शहर में पान की दुकानों पर यह तख़्ती लगी थी। स्कूल के छोकरे सिगरेट पीना चाह रहे थे।
‘‘ओए, जा ले आ सिगरेट।’’
‘‘मैं नहीं जाता। पान वाला नहीं देगा।’’
‘‘अबे, कह देना, पापा ने मँगाई है।’’
‘‘स्कूल में.....?’’
‘‘चलो, शाम को नुक्कड़ पर मिलेंगे।’’
‘‘ठीक है।’’
.............
‘‘भइया, एक सिगरेट का पैकेट देना। हाँ, गुटखा भी।’’
‘‘बच्चे, तुम तो बहुत छोटे हो। तुम्हें नहीं मिल सकता।’’
‘‘अंकल, मेरे पापा ने मंगवाई है। ये लो पैसे।’’
‘‘ओह! तुम तो शुक्ला साब के बेटे हो।’’
पान वाले ने सहर्ष उसे सामान दे दिया।
कुछ दिन बाद....।
‘‘राम–राम शुक्ला जी।’’
‘‘लीजिए साब। आजकल बेटे से बहुत सिगरेट मँगाने लगे हो। हर रोज शाम को आ जाता है।’’
सुनकर शुक्ला साब के हाथ से सिगरेट छूट गई......।

न जाने क्यों?????

न जाने क्यों मैं देखता हूँ, रोज दफन होता एक बच्चा.. 
मैं देखता हूँ, रोज टुकड़े-टुकड़े मरता एक हिन्दुस्तानी सच्चा....!!!!

न जाने क्यों मैं सपने देखता हूँ की इस जहाँ में, कोई एक ऐसा छोर होगा,, 
जहाँ न भीड़ होगी और न ही कोई शोर होगा...!!!!

न जाने क्यों मैं निरंतर सपने देखता हूँ, की इस जहाँ में, एक ऐसा छोर होगा, 
जहाँ कोई न मेरे जैसा ओर होगा.........................!​!!
#क्या_कभी_होगा??

23 July....उस मृतात्मा की राख में भी इतनी शक्ति है की आज भी वो अलख जगा सकती है !

Chandra Shekhar Aazad-
Was born on 23 July 1906 to Pandit Sita Ram Tiwari and Jagrani Devi. He received his early schooling in Bhavra. For higher studies he went to the Sanskrit Pathashala at Varanasi...

Bal Gangadhar Tilak-
Was Born on July 23, 1856 And Died on August 1, 1920
...He Considered as Father of Indian National Movement; Founded “Deccan Education Society” to impart quality education to India's youth; was a member of the Municipal Council of Pune, Bombay Legislature, and an elected 'Fellow' of the Bombay University; formed Home Rule League in 1916 to attain the goal of Swaraj...

"'Bhrasht Netaon Ki Bhrashtataa ka hum samna karenge,,,
#Aazad hee rahein hain,, Aazad hee Rahenge '" #JaiHind

Ek Bhartiya Insaan Kaisa Ho....?????

Zindgi Agar Tumhen Ek Mauka Jo De,
Mat Use Chodna Jo Mile Agar Kabhi..


Yun to Aate Hain Jeewan Me Log Bhi kayi,
Par Kisi Khas Ko Tum Na Chodna Kabhi..


Rishton Ke Darmayaan Duriyan Bhi Panapti Hain,
Apni Taraf Se Un Rishton ko Na Todna Kabhi..


Mulk Ye Hi Apna Hai Aur Sab Paraaye,
Pasuta Se Iske Daaman Ko Na Bhabhodna Kabhi..


Kartavya Jo Bhi Hain Iske Prati Sab Tumhare,
Un Kartavyon Se Tum Muh Na Modna Kabhi.. (By RaviPratapSingh)




मिल गया भ्रष्टाचार..

हमारे लाख मना करने पर भी हमारे घर के चक्कर काटता हुआ मिल गया भ्रष्टाचार..

हमने डांटा : नहीं मानोगे यार

तो बोला : चलिए आपने हमें यार तो कहा अब आगे का काम हम सम्भाल लेंगे आप हमको पाल लीजिए आपके बाल-बच्चों को हम पाल लेंगे
...
हमने कहा : भ्रष्टाचार जी! किसी नेता या अफ़सर के बच्चे को पालना और बात है इन्सान के बच्चे को पालना आसान नहीं है


वो बोला : जो वक्त के साथ नहीं चलता इंसान नहीं है मैं आज का वक्त हूँ कलयुग की धमनियों में बहता हुआ रक्त हूँ कहने को काला हूँ मगर मेरे कई रंग हैं दहेज़, बेरोज़गारी, हड़ताल और दंगे मेरे ही बीस सूत्री कार्यक्रम के अंग हैं मेरे ही इशारे पर रात में हुस्न नाचता है और दिन में पंडित रामायण बांचता है मैं जिसके साथ हूँ वह हर कानून तोड़ सकता है अदलत की कुर्सी का चेहरा चाहे जिस ओर मोड़ सकता है उसके आंगन में अंगड़ाई लेती है गुलाबी रात और दरवाज़े पर दस्तक देती है सुनहरी भोर उसके हाथ में चांदी का जूता है जिसके सर पर पड़ता है वही चिल्लाता है वंस मोर वंस मोर वंस मोर इसलिए कहता हूँ कि मेरे साथ हो लो और बहती गंगा में हाथ धो लो

हमने कहा : गटर को गंगा कहते हो? ये तो …

गिरफ्तारी मेरे देश की...

मेरा देश यारों देखो ऐसे गिरफ़्तार हो गया,,,
भ्रष्टाचार के हाथों ईमान गिरफ़्तार हो गया...


कौन भारतीय नेता नहीं है भ्रष्टाचारियों में,,,
इस सवाल पर हर जवाब गिरफ़्तार हो गया...



कोशिशें तो की थी वैसे मैंने जमाने भर की,,,
भूली बिसरी यादों में मगर गिरफ़्तार हो गया...



वक्त की बात है ये एक है और वो एक था,,,
वक्त के हाथों मैं यूँ ही गिरफ़्तार हो गया...



ले के तो गया था रवि भी भाले बरछे तीर,,,
रामलीला की गलियों में बाबा के साथ मैं भी गिरफ़्तार हो गया..........!!!

Every person deserve for at least HELLO….

During my second month of nursing school, Holly nursery public school  in AGRA, our class teacher gave us a pop quiz..
I was a conscientious student and had breezed through the questions, until I read the last one: “What is the first name of the woman who cleans the school?”
Surely this was some kind of joke. I had seen the cleaning woman several times. She was tall, dark-haired and in her 50s, but how would I know her name?
I handed in my paper, leaving the last question blank..
Before class ended, one student asked if the last question would count toward our quiz grade.
“Absolutely,” said the professor. “In your careers you will meet many people. All are significant. They deserve your attention and care, even if all you do is smile and say ‘hello’.”
I’ve never forgotten that lesson. I also learned her name was “Shanti”……..

Set your “PRIORITIES”…………

WHEN  I become free from my work…….., I use to watch inspirational movies. one day I saw in a HOLLYWOOD movie, A philosophy professor stood before his class with some items on the table in front of him. When the class began, wordlessly he picked up a very large and empty mayonnaise jar and proceeded to fill it with rocks, about 2 inches in diameter.
He then asked the students if the jar was full. They agreed that it was.
So the professor then picked up a box of pebbles and poured them into the jar. He shook the jar lightly. The pebbles, of course, rolled into the open areas between the rocks.
He then asked the students again if the jar was full. They agreed it was.
The professor picked up a box of sand and poured it into the jar. Of course, the sand filled up everything else.
He then asked once more if the jar was full. The students responded with a unanimous “Yes.”

“Now,” said the professor, “I want you to recognize that this jar represents your life. The rocks are t…

Something about my collage.... :)

यारी जो समंदर को निभानी नहीं आती…
ये तय था कश्तियों पे जवानी नहीं आती..
वो तो हवा ने हमसे दगा कर दिया…
क्या हमको एक पतंग उड़ानी नहीं आती..
साँपों के शहर में समझिये उसकी मौत है..
जिसको सुरीली बींन बजानी नहीं आती..
हर छात्र अपनी जबान बंद अगर रखता..
तो लोगों के सामने रामा (my collage) की कहानी नहीं आती..
रिश्तों में भी कुछ ऐसा बदलाव आ गया..
अब याद बुरे वक़्त भी नानी नहीं आती..
ऐ रामा (my collage) वालों दम है तो एक बार आजमा के देख लो..
वैसे भी हमें पीठ दिखानी नहीं आती..
रवि के विचार सुनकर लोग कह उठे…
औरों को ऐसी चीज सुनानी नहीं आती…

Raajneeti in “INDIA”

कई दिनों से मैंने राजनीति पर, ऐसा कुछ नहीं लिखा…
जो बताये राजनीति क्या है, और उसका प्रतिबिम्ब दे दिखा.. 


राजनीति की प्रतिबिम्ब्ता, सीमित है अंधियारों में…
आईये आपको ले चलता हूँ, संसद के गलियारों में..


इस संसद में बिन पेंदी के लोटे, समूहों में दिखते हैं..
कभी यहाँ कभी वहाँ, स्वार्थ जहाँ हो बिकते हैं ..


सुबह सपा में तो शाम को, बसपा में नज़र आते हैं…
इस संसद में ऐसे दृश्य, अक्सर नज़र आते हैं…


ताज्जुब की बात है…….

कुछ नेता केंद्र पर शासन के लिए भी, करते हैं लडाई…
पढ़े लिखों पर शासन वो करेंगे, जिन्होंने कभी न की पढाई…


सोचने की बात है…

जिस देश में लोग IAS, PCS, डाक्टर इत्यादि बन जाते हैं..
वहीँ लोग ना जाने क्यों, राजनीति में जाने से घबराते हैं…


देखना एक दिन जब युवा लोग, संसद में जायेंगे…
तभी वास्तविकता में भारत को, स्वतंत्र बनायेंगे….


पर डरता हूँ की वो दिन आते आते, कहीं ना रह जाये…
युवा शक्ति के इंतज़ार में, बूढ़े भारत का लोकतंत्र ना ढह जाये…

जय बोलो बेईमान की….

बेकारी औ भुखमरी, महंगाई घनघोर,,
जित देखूं तित दिखें,खादी में सब चोर|
इस पेज पर में करता हूँ, बातें हिन्दुस्तान की,,
जय बोलो बेईमान की! बातें तो सब ही करें, अमल करे न कोय,,
महगाई के बोझ तले, गरीब बिलख कर रोय |
करता हूँ फ़रियाद में सबसे, लोगों के कल्याण की,,
जय बोलो बेईमान की! देश देश तो सब करें, देश न समझे कोय,,,
भारत माँ के चीरहरण पर,कोई नहीं अब रोय |
इज्ज़त लूट रहे हैं नेता, मेरे हिन्दुन्तान की,,,
जय बोलो बेईमान की… | (doc Ravi)

Funny songs With Name of PEOPLE

Aao sikhaun "Ande ka funda" = Baba RamdevPyar Hamey Kis Mod Pey le aaya = SalmanKhanAapun bola tu meri laila wo boli fekta hain saala = Vivek oberoi Hum Aapke Hain Kaun (Daamaad) = KasaabSaari duniya Ka Bojh Hum Uthate hain = American PresidentKisi Ke haath na aayegi ye Ladki = Poonam PandeyTenuu Ghodi Kinne Chadaya Bhootni ke = Prince WilliamSaadi Gali Bhul ke Bhi Aaya Karo = Our PoliticianHum To Bhai Jaise Hain waise Rahenge = PakistanKoi Jaaye to le aaye meri Lakh Duayen Paye = Kohinoor DiamondGul Batti kamre ki ho jaye to pyar do = Siddharth MallyaYaad.... aa Raha Hai = Gajni Aye Bachchu Tu Sun Le, Mere Dil Ka Ye Order = Lok sabha speakerMera Hi Jalwa = Baraak ObamaGazab Bhaiyyo Raama Julam Bhaiyyo Raama = Parliament attackEk Taraf Hai Ghar Wali Ek Taraf Bahar Wali = Border Najare Kaha Soti Hain = Army